बेतिया

बेतिया मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन प्लांट की हुई शुरुआत ,आपूर्ति चालू

Spread the love

बेतिया मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन प्लांट की हुई शुरुआत ,आपूर्ति चालू

अस्मितभारत न्यूज बेतिया। कोरोना महामारी को देखते हुए, बेतिया मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट की शुरुआत की गई है, इससे आपूर्ति भी शुरू हो गई है ,जिससे रोगियों को उनके बेड तक पाइप के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई आसानी से की जा सके, अब रोगियों को ऑक्सीजन के बिना मरने नहीं दिया जाएगा, ऑक्सीजन सिलेंडर के नहीं रहने के कारण बहुत से रोगियों की मृत्यु हो गई थी, इसको देखते हुए जिला प्रशासन एवं स्थानीय सांसद, उप मुख्यमंत्री बिहार सरकार तथा स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे की पहल पर बेतिया मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट की शुरुआत कर दी गई है ,इससेआसानी से रोगियों को ऑक्सीजन मिलना शुरू हो गया है, बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री ,मंगल पांडे के निर्देश पर, पटना से पहुंची टीम ने ऑक्सीजन प्लांट की अधिष्ठापना का कार्य शुरू कर दिया है, इससे बेतिया मेडिकल कॉलेज में भर्ती रोगियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में कोई दिक्कत नहीं होगी, और रोगियों की जान बचाई जा सकती है, स्थानीय सांसद सह भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, संजय जयसवाल एवं बिहार सरकार के उपमुख्यमंत्री, रेनू देवी ने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री ,मंगल पांडे का आभार व्यक्त किया है ,और आगे बताया है कि इस ऑक्सीजन प्लांट के शुरू हो जाने से कोरोना वार्ड के मरीजों को उनको पाइप लाइन के माध्यम से ऑक्सीजन की सप्लाई हो सकेगी ,अभी कोविड वार्ड में 70 बेड लगे हुए हैं, पाइप लाइन के जरिए रिफिलिंग का काम रोगियों के बेड तक आसानी से आपूर्ति की जा सकेग,इस काम को पूरा कराने में स्थानीय सांसद की भुमिका सराहनीय रही है, इनकी लगातार छह दिनों की मेहनत का फल सामने नजर आ गया है, उन्होंने लगातार बेतिया मेडिकल कॉलेज अस्पताल का मुआयना करके इसके इंतजाम को मजबूत करने में अग्रणी भूमिका निभाई है, जिससे मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था में काफी सुधार हुआ है, और मजिस्ट्रेट की तैनाती भी की गई है ,साथ ही डॉक्टरों की ड्यूटी चार्ट भी लगाया गया है, तथा डॉक्टरों को वार्ड में मुआयना करने के लिए अधिकारिक तौर पर जिम्मेदार बनाया गया है, ताकि कोई कोवीड वार्ड में रोगियों को किसी प्रकार की दवाई,सुई, ऑक्सीजन,भोजन की कमी नहीं हो, और उनके देखभाल में किसी तरह की कोई लापरवाही चिकित्सकों के द्वारा नहीं की जा सके। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टरों को कम से कम तीन राउंड कोविड वार्ड में घूमकर रोगियों के देखभाल करनी है,जिस पर मजिस्ट्रेट निगरानी रखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *