National

PM मोदी से उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद NCP का साथ छोड़ेगी शिवसेना? जानें- क्या बोले शरद पवार

Spread the love

PM मोदी से उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद NCP का साथ छोड़ेगी शिवसेना? जानें- क्या बोले शरद पवार

अस्मितभारत , मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने हाल ही में मराठा आरक्षण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। पीएम और सीएम की इस मुलाकात के बाद महाराष्ट्र में सियासी कयासबाजी शुरू हो चुकी है। आज राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) सुप्रीमो और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने पार्टी के 22वें स्थापना दिवस पर उद्धव ठाकरे को याद दिलाया कि कैसे बालासाहेब ठाकरे अपने जुबान के पक्के थे।

उन्होंने कहा, “1977 में जब पूरा राजनीतिक परिदृश्य इंदिरा गांधी के खिलाफ था, एक व्यक्ति था जो उनके साथ खड़ा था, और वह थे बाल ठाकरे। उन्होंने उनसे वादा किया कि वह उनकी पार्टी के खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारेंगे, और वह अपनी बात पर कायम रहे। इसी तरह सत्ता में शिवसेना हमारे साथ है। जो लोग उस बैठक के बाद शिवसेना के रुख में बदलाव पर सवाल उठा रहे हैं, वे अलग जन्नत में रह रहे हैं।”

पवार ने कहा, “ठाकरे-मोदी की मुलाकात के बाद बातचीत के बावजूद, हमें विश्वास है कि हमारी सरकार 5 साल तक चलेगी। हम आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों में भी लोगों की बेहतरी के लिए काम करना जारी रखेंगे।” आपको बता दें कि बैठक के बाद शरद पवार की यह पहली प्रतिक्रिया है। बयान को उद्धव को क्लीन चिट और अपनी बात रखने की याद दोनों के रूप में देखा जा रहा है।

राजनीतिक संबंधों की परवाह किये बगैर व्यक्तिगत संबंधों को महत्व दिया है: शिवसेना
शिवसेना ने बीते बुधवार को कहा कि उसने राजनीतिक संबंधों की परवाह किये बगैर हमेशा व्यक्तिगत संबंधों को महत्व दिया है और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच मंगलवार की मुलाकात व्यक्तिगत संबंधों के साथ-साथ प्रोटोकॉल का भी हिस्सा थी। प्रधानमंत्री के साथ अपनी बैठक के बाद, ठाकरे ने मंगलवार को कहा था कि इस तरह की बातचीत करने में कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा था कि वह पाकिस्तानी नेता नवाज शरीफ से मिलने नहीं गए थे। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा गया था, ”मुख्यमंत्री का दिल्ली दौरा राजनीतिक कारणों से नहीं था। जो लोग इसमें राजनीति देखते हैं, उन्हें अपनी सोच से खुश होने दें। इस बैठक को लेकर बहुत सारी अटकलें होंगी। हम केवल यह उम्मीद करते हैं कि महाराष्ट्र के साथ लंबित मुद्दे केंद्र जल्द हल करे।’

आपको बता दें कि ठाकरे ने हाल ही में प्रधानमंत्री से मुलाकात की थी और मराठा आरक्षण, लंबित जीएसटी मुआवजा और कंजुरमार्ग में प्रस्तावित मेट्रो कारशेड जैसे मुद्दों पर चर्चा की। इस दौरान प्रदेश के उप मुख्यमंत्री अजित पवार और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक चह्वाण भी उनके साथ मौजूद थे। महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष फडणवीस से जब इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ”मुझे नहीं पता कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के बीच अलग से कोई मुलाकात हुयी है। यदि हम मान भी लेते हैं कि इस तरह की कोई बैठक हुयी भी है तो इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *