पटना

मोदी मंत्रिपरिषद में 27 नए मंत्री हो सकते हैं शामिल, जानिये बिहार से कौन बनेगा मंत्री

Spread the love

मोदी मंत्रिपरिषद में 27 नए मंत्री हो सकते हैं शामिल, जानिये बिहार से कौन बनेगा मंत्री

अस्मितभारत पटना। मोदी मंत्रिपरिषद में फेरबदल और विस्तार की चर्चा एकबार फिर जोरशोर से हो रही है. ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुशील मोदी, सर्बानंद सोनोवाल, नारायण राणे और भूपेंद्र यादव सहित 27 संभावित नेता केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल हो सकते हैं. नरेंद्र मोदी सरकार में जिन नए मंत्रियों के शपथ लेने की संभावना है उनमें मध्य प्रदेश के पूर्व कांग्रेस दिग्गज सिंधिया ,बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, भाजपा के वरिष्ठ संगठन पार्टी महासचिव, राजस्थान से भूपेंद्र यादव और मध्य प्रदेश से कैलाश विजयवर्गीय, भाजपा प्रवक्ता और अल्पसंख्यक चेहरा सैयद जफर इस्लाम शामिल हैं.
मास्टर लिस्ट में असम के पूर्व सीएम सर्बानंद सोनोवाल और महाराष्ट्र के पूर्व सीएम नारायण राणे के अलावा, महाराष्ट्र बीड के सांसद प्रीतम मुंडे और गोपीनाथ मुंडे की बेटी फेरबदल उम्मीदवारों की सूची में हैं. उत्तर प्रदेश से बीजेपी यूपी प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह, महाराजगंज से संसाद पंकज चौधरी, वरुण गांधी और गठबंधन सहयोगी अनुप्रिया पटेल संभावितों में शामिल हैं.राज्यसभा सांसद अनिल जैन, ओडिशा से सांसद अश्विनी वैष्णव और बैजयंत पांडा, बंगाल के पूर्व रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी भी सूची में हैं. राजस्थान से मोदी सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी.पी. चौधरी, चूरू से प्रदेश के सबसे युवा सांसद राहुल कस्वां और सीकर के सांसद सुमेधानंद सरस्वती भी इन संभावितों में शामिल हैं. दिल्ली से एकमात्र चेहरा नई दिल्ली की सांसद मीनाक्षी लेखी हो सकती हैं.

बिहार में महत्वपूर्ण मंथन के बीच चिराग पासवान के खिलाफ बगावत करने वाले पशुपति पारस को लोजपा से केंद्रीय सीट मिलने की संभावना है. उसी तरह से जेडीयू के नामांकन आर.सी.पी. सिंह और संतोष कुमार भी इस सूची में हैं. कर्नाटक का प्रतिनिधित्व राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर कर सकते हैं. गुजरात भाजपा अध्यक्ष सी.आर. पाटिल, अहमदाबाद पश्चिम सांसद किरीट सोलंकी के साथ सरकार की ओर बढ़ रहे हैं.हरियाणा से सिरसा की सांसद सुनीता दुग्गल, एक पूर्व आयकर अधिकारी भी संभावितों में शामिल हैं. अपने संसद भाषण से प्रभावित करने वाले लद्दाख के सांसद जामयांग त्सेरिंग नामग्याल पर भी विचार किया जा रहा है. रामविलास पासवान और सुरेश अंगड़ी जैसे नेताओं के असामयिक निधन और अकाली दल और शिवसेना के बाहर होने के कारण कुछ रिक्तियों के कारण फेरबदल की आवश्यकता हो रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *