पटना

एरियर भुगतान के बदले डॉक्टर से घूस ले रहा था क्लर्क, विजिलेंस ने दफ्तर से धर दबोचा

Spread the love

एरियर भुगतान के बदले डॉक्टर से घूस ले रहा था क्लर्क, विजिलेंस ने दफ्तर से धर दबोचा

अस्मित भारत पटना । नवादा में एक बार फिर से निगरानी की टीम ने सरकारी कर्माचारी को गिरफ्तार किया है. पटना निगरानी अन्वेषण ब्यूरो से आई टीम ने नवादा जिला के संयुक्त औषधालय के प्रधान लिपिक मेश चौधरी को 15000 रुपए घूस लेते रंगे हांथो गिरफ्तार किया. निगरानी के डीएसपी अरुण पासवान ने बताया कि मुख्य लिपिक रमेश चौधरी परिवादी डॉ नित्यानंद प्रसाद से डीएसीपी का भुगतान करने के एवज में घूस मांग रहे थे. परिवादी डॉ नित्यानंद प्रसाद ने निगरानी को इस कीशिकायत पटना स्थित निगरानी कार्यालय को बीते 12 मार्च को की थी. निगरानी के अधिकारियों ने इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए एक धावा दल टीम का गठन किया. जाय जांच के दौरान यह बात निकल कर सामने आई कि प्रधान लिपिक ने इस कार्य के लिए कुल 35000 रुपये रकम की मांग काम करने के लिए ली थी. इस राशि में से 15000 शुरू में देने की और बाकी 20000 काम के होने के बाद देने की बात हुई थी. निगरानी के अधिकारियों ने जांच में यह बात सत्य साबित हुई. निगरानी की टीम ने लिपिक को उनके कार्यालय से गिरफ्तार किया. पैसे लेने का कार्य वो कार्यालय में कर रहे थे. गिरफ्तार अभियुक्त को पूछताछ के उपरांत निगरानी की टीम अपने साथ पटना ले गयी. नवादा में ही एक सप्ताह पूर्व निगरानी की टीम ने रोह ब्लॉक के सीआई को गिरफ्तार करने आई थी मगर सीआई और उनके परिवार ने निगरानी की टीम पर हमला कर दिया और वह फरार हो गया. इस तरह से निगरानी की टीम ने एक सप्ताह के भीतर दो भ्रष्ट सरकारी कर्मियों को पकड़ा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *